विज्ञान और प्रौद्योगिकी की विभिन्न धाराओं में अन्वेषण , नित नए आविष्कार होते जा रहे है । प्रत्येक देश वैज्ञानिक अविष्कारों में स्वयं की प्राथमिकता दिखाने में स्पर्धा में लगे हुए है । ऐसे समय में कई लोग यह कहने वाले मिल जाते है प्राचीन भारत में तो वैज्ञानिकता थी ही नहीं , हम केवल परम्पराओं , आदर्शों , मूल्यों की बाते करते रहे
पर आईये कुछ ऐसे तथ्यों पर दृष्टि डालते है जो की आपकी तथाकथित पूर्व धारणा बदल देगी

भौतिकी –
प्रकाश के वेग की गणना आधुनिक भौतिकी की अद्भुत अविष्कारों में से एक है जिस की त्रुटी रहित गणना १८ वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में की गयी । परन्तु इस वेग की गणना भारत के मनीषियों ने प्राचीन काल में ही कर ली थी

ऋग्वेद के प्रथम मंडल के ५ ० वें सूक्त के चौथे श्लोक पर भाष्य करते हुए महर्षि शायण ने निम्न श्लोक प्रस्तुत किया

तथा च स्मर्यते योजनानां सहस्त्रं द्वे द्वे शते द्वे च योजने एकेन निमिषार्धेन क्रममाण नमोऽस्तुते॥
-सायण ऋग्वेद भाष्य १. ५ ० .४

अर्थात आधे निमेष में २ २ ० २ योजन का मार्ग तय करने वाले सूर्य तुम्हे नमस्कार है
इस श्लोक के अनुसार यदि हम निमेष को समय की आधुनिक मात्रक सेकंड में एवं योजन को मीटर में परिवर्तित कर वेग की गणना करे तो वेग का मान उतना ही आता है जितना की आधुनिक यंत्रों से मापन करने पर ।
यह एक संयोग नहीं कहा जा सकता

18 निमीष = 1 काष्ठ;
30 काष्ठ = 1 कला;
30 कला = 1 मुहूर्त;
30 मुहूर्त = 1 दिन व् रात (लगभग 24 घंटे )

24 घंटे = 30*30*30*18= 486000 निमेष
24 घंटे में सेकंड हुए = 24*60*60 = 86400 सेकंड
1 निमिष = 86400 /486000 = .17778 सेकंड
1/2 निमिष =.08889 सेकंड

2202 योजन = 8 * 2202 = 17616 मील

अतः वेग = दूरी / समय
= 17616/0.8889
= 186000 मील प्रति सेकंड

खगोल विज्ञान –
जब पश्चिम में गैलिलियो के इतना कहने पर की सूर्य स्थिर है और पृथ्वी परिक्रमा करती है उसे मृत्यु दण्ड दे दिया गया उससे बहुत समय पहले भारतीय मनीषियों को पता था इस तथ्य का
जिसे समय समय पर कई विद्वानों ने इसका उल्लेख किया जैसे की आर्यभटट
ज्योतिष शास्त्र अपने आप में स्वयं अंतरिक्ष एवं खगोल विज्ञान का प्रमाण है ।

धातुकर्म प्रौद्योगिकी एवं धातु विज्ञान –
मेहरौली के लौह स्तम्भ के निर्माण में प्रयोग किये गए उच्च धातु विज्ञान द्वारा परिष्कृत
लौह धातु के बारे में सभी जानते है परन्तु इसके अतिरिक्त एक स्तम्भ कोल्लूर में है जहाँ ७५० सेमी वर्षा ६-८ महीने होती है परन्तु फिर भी इसमें जंग नहीं लगा ।
जस्ता धातु के अयस्क से जस्ता प्राप्त करने में अत्यंत कठिनाई होने के कारण बी( ज़स्ता के गलनांक एवं क्वथनांक में मात्र ३ डिग्री सेल्सियस कला अंतर होने के कारण ) इसका शोधन एक रहस्य बना रहा संसार के सामने ।
सर्वप्रथम विलीअम चैंपियन ने ब्रिटेन में ज़स्ते की रिफायनरी स्थापित की १५४३ में परन्तु इससे चार हजार वर्ष पहले ही भारत में इसका समाधान निकाला जा चुका था । यह कहा जा सकता है की चार हजार वर्षों तक पूरा संसार ज़स्ते के लिया भारत पे आश्रित था ।

रसायन विज्ञान –
महर्षि आगस्त्य ने बहुत समय पूर्व ही ज़स्ते और ताम्बे का उपयोग कर के लेक्लान्शे सेल के निर्माण की विधि एवं विद्युत् अप्घतनी रासायनिक क्रियायों का उल्लेख किया है ।

वैमानिक विज्ञान –
महर्षि भरद्वाज ने अपनी पुस्तक यन्त्र सर्वस्व में विभिन्न इंधनों से चलने वाली विमानों की संरचना का वर्णन किया है ।

चिकित्सा विज्ञान –
शल्य चिकित्सा का सफल प्रयोग शुश्रुत ने जिस समय भारत में किया उस समय सम्पूर्ण संसार चिकित्सा विज्ञान के प्रारंभिक तथ्यों से भी अनभिज्ञ थी ।
चरक भी प्राचीन भारत के महान चिकित्साविद थे । अनेक प्राचीन पुस्तकों में शल्य क्रिया में प्रयोग किये जाने यंत्रों का वर्णन है जो की आज भी आधुनिक युग में प्रयोग किये जाते है ।
पतंजलि के छोटे छोटे सूत्रों में आज भी चिकित्सा विज्ञान के अनेक रहस्य छिपे है ।

गणित –
विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी की बात हो एवं गणित की बात ना की जाये तो सर्वथा अन्याय होगा । दशमिक मान , शुन्य का आविष्कार जिसके बिना तो वैज्ञानिक गणनाओं का अस्तित्व ही नहीं भारत की ही देन है । गणना की गति तीव्र करने के लिए आज सभी वैदिक गणित की ओर देख रहे है । सर्वप्रथम त्रिकोंमितीय अनुपातों ज्य़ा (sine), कोज्या (cosine), इत्यादि को भारत में ही संज्ञा दी गयी । आव्यूह की संक्रियाओं का भी सूत्रों के रूप में वर्णन है । आधुनिक भौतिकी की तो कलन गणित के बिना संकल्पना ही नही की जा सकती जिसका वर्णन भी मिलता है । बौधायन प्रमेय , श्रीधराचार्य सूत्र इत्यादि इत्यादि ऐसे अनेकों योगदान है गणित के क्षेत्र में ।

ऐसे ही अनेक तथ्य विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी से सम्बद्ध प्राचीन भारत के गर्भ में छिपे है , सबका वर्णन करना यहाँ संभव नहीं है चाहे वो संस्कृत भाषा की दक्षता की बात हो कंप्यूटर के एल्गोरिदम के लिए , कृत्रिम अंगों , गुरुत्वाकर्षण ,श्याम विविर (ब्लैक होल ),ध्वन्यात्मक लिपि (फोनेटिक स्क्रिप्ट ), पृथ्वी की आयु, ऐसे अनेकों तथ्य समय समय पर प्रकट होते रहे है ।
सुचना प्रौद्योगिकी के इस संस्थान का अंग एवं इस महान राष्ट्र के वासी होने के कारण हमारा दायित्व है की हम उन तथ्यों पर शोध कर संसार के सामने प्रकट कर अपने दायित्व का निर्वाह करे एवं वेदों की सर्वे भवन्तु सुखिनः की संकल्पना से संसार को कृतार्थ कर वसुधैव कुटुम्बकं को चरितार्थ करें ।